Follow by Email

Tuesday, October 4, 2011

जो दिया उसने,
उसे ही मान लिया अपना मैनें,
जो दिया उसने,
उसे ही जान लिया सपना मैनें...
जो दिया उसने,
उसे कभी ना न कर पाया मैं...
लिखा मान अपनी किस्मत का,
कहा मान लिया उसका मैनें...

अब न आस है कुछ पाने की,
ना राह है कहीं जाने की,
है हवाले उसके मेरी मंजिलों की डगर,
वो मालिक है ले जाए जहां मेंरी जिंदगी का सफ़र...